राव जाति भारतवर्ष के विभिन्न राज्यों में अलग-अलग राज्यों में विध्यमान है । वर्तमान में यह जाती जागीरदार राव, शासनिक राव एवं राव राजपूत जाती से प्रख्यात है । मूलत: यह जाती चौरासी गोत्र में विध्यमान है परन्तु आज इनकी सैंकड़ो प्रजातिया- प्रशाखाए बन गई है । मुख्य गोत्र इस प्रकार है:

 

1. सोनंग           2. बडंग           3. साखड        4. बिलास         5. लोल             6. बीजापुर

 

7. केलपुर          8. राणा           9. घन्टियाल    10. अठसेला     11. कादरा          12. राटेचा

 

13. आसोलिया   14. बागड़ी       15. करोडचा    16. दयावढा      17. लोलावला      18. कोलिया

 

19. काकरेचा     20. भटतला     21. भीनमाल    22. सिधपुरा     23. वीरपुरा         24.लाखणोता

 

25. चियुसा       26. चंदादरया   27. सिहड         28. पलिवाल    29. पंचलानिया    30. सुतामला

 

31. भटसुर      32. सोरठिया     33. सिरोया       34. हरसुर        35. बावजा          36. वेलावचा

 

37. मोरेचा      38. देवड़ा          39. ईडचा         40. रुपावला     41. पालणपुरिया    42.मंडोवरा

 

43. सारेचा      44. हरियानसा   45. भुलेच         46. तलवाडचा   47. मिठाना          48. एमल

 

49. दन्तान      50. दियो         51. गिरधरा       52. मुलनकपुरा  53. गोहिल           54. बेराड

 

55. खोलिवाड  56. नसवन्त्या   57. धरण          58. धवल          59. मुनिलो          60.मादरेचा

 

61. सोनगरा    62. पितलिया    63. मोकेसा        64. सुराचेय       65. डाडेरा           66. पोसाल

 

67. बोरलिया    68. अर्जुन        69. सरेल           70. भांडेचा        71. टिमेचा          72. राजोरा

 

73. करणपुर     74. भुनेचा       75. धांध            76. उपबोरा       77. साकरोडचा    78. टांक

 

79. संगेलिया    80. सायरा       81. सोहळ्या       82. धवल        83. मोहिला         84.मकवान